The original source of nipah virus is not bat
Uncategorized

निपाह वायरस फैलने का मूल स्रोत चमगादड़ नहीं

नई दिल्ली। केरल के कोझीकोड और मलप्पुरम जिलों से लिए गए चमगादड़ों के नमूनों में निपाह वायरस नहीं मिला है। केंद्रीय मेडिकल टीम ने स्वास्थ्य मंत्रालय को सौंपी रिपोर्ट में यह बात कही है। कोझीकोड और मलप्पुरम जिलों में निपाह वायरस के संक्रमण से 12 लोगों की मौत हो गयी थी।
अब निपाह वायरस फैलने की दूसरी वजहों का पता लगाया जा रहा है। केरल के कोझीकोड और मलप्पुरम जिलों से 21 सैंपल लिए गये थे जिनमें से सात चमगादड़, दो सूअर, एक गोवंश और एक बकरी का था। इन नमूनों को जांच के लिए भोपाल स्थित राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशुरोग संस्थान और पुणे स्थित राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान भेजा गया था।

इन नमूनों में उन चमगादड़ों के नमूने भी शामिल थे जो कि केरल में पेराम्बरा के उस घर के कुएं में मिले थे जहां शुरूआती मौत की सूचना मिली थी। इन नमूनों में निपाह वायरस नहीं पाये गए हैं। ऐसे लोग जिनके निपाह वायरस से संक्रमित होने का संदेह था उनके नमूनों में भी यह विषाणु नहीं पाया गया है।
हालांकि अब तक इस वायरस से संक्रमित होने के 15 पुष्ट मामले सामने आए हैं जिनमें से 12 लोगों की मौत हो चुकी हैं जबकि तीन का इलाज चल रहा है। हिमाचल में मृत मिले चमगादड़ों के नमूने पुणे भेजे गए थे, उनमें भी यह विषाणु नहीं पाया गया है। इसके साथ ही हैदराबाद के संदिग्ध मामलों के दो नमूनों में भी यह वायरस नहीं पाया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *