Shillong, clash,reason behind the incident
अपडेट

शिलाॅन्ग में मामूली कहासुनी के बाद ऐसे भड़क गई हिंसा

नई दिल्ली। मेघालय की राजधानी शिलाॅन्ग में हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। उपद्रवियों ने एक बार फिर पेट्रोल बम और पत्थरों से सुरक्षा बलों पर हमला किया। हिंसा फैलाने के मामले में पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार भी किया है। मुख्यमंत्री कॉनराड के. संगमा ने प्रेस काॅन्फ्रेंस में कहा कि हिंसा स्थानीय मुद्दे को लेकर हुई थी । यह सांप्रदायिक हिंसा नहीं थी। उन्होंने रविवार को यह भी कहा था कि पुलिस को ऐसी सूचना मिली है कि कुछ लोग पत्थरबाजों को पैसा दे रहे हैं। हिंसा के लिए पैसा देने वालों का पता लगाया जा रहा है।

विगत बृहस्पतिवार को खासी समुदाय से ताल्लुक रखने वाले सरकारी बस के कंडक्टर की बस पार्किंग को लेकर पंजाबी समुदाय की युवती से कहासुनी हो गयी थी। इस कहासुनी पर दोनों पक्ष के लोगों ने एक दूसरे से कथित मारपीट भी की। बताया जाता है कि पुलिस ने मामला शांत करा दिया था। किसी ने सोशल मीडिया में युवक की मौत की खबर उड़ा दी। इसके बाद स्थानीय संगठनों के लोग पंजाबी कालोनी पहंच गए और दोनों पक्षों के बीच हिंसक झड़प शुरू हो गयी।  रविवार को कर्फ्यू लगने के कुछ ही देर बाद पंजाबी लेन के आसपास के इलाकों में दंगाइयों ने पुलिस और सेना पर हमला किया था।

इस इलाके के खासी लोग पंजाबी समुदाय को हटाने की मांग लंबे समय से कर रहे हैं। पंजाबी लेन गुरुद्वारा कमेटी के महासचिव गुरजीत सिंह इंडियन एक्प्रेस को बताया कि खासी लोग पंजाबी समुदाय को 1980 से अवैध निवासी बता रहे हैं। उनसे यहां से चले जाने को कह रहे हैं। वह कहते हैं कि यहां वे कई सालों से रह रहे हैं और रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *