two BSF personnel committed suicide
अपडेट

बेटे को गिरवी रखने के बाद भी कर्ज नहीं चुका पाया तो खुदकुशी की

खंडवा (मध्यप्रदेश) । बुरहानपुर जिले के पातोड़ा गांव में एक किसान अपने बेटे को गिरवी रखने के बाद भी कर्ज नहीं चुका पाया तो उसने कीटनाशक पीकर खुदकुशी कर ली। यह घटना रविवार की है।

पातोड़ा गांव के 42 वर्षीय किसान कारकुंड ने स्थानीय सोसाइटी से कर्ज लिया था। वह कर्ज की किश्त अदा नहीं कर पा रहा था। रकम चुकाने के लिए उसने अपने 17 वर्षीय बेटे को ऊंट चराने के लिए खंडवा से सटे एक गांव में गडरिये के पास ढाई लाख रुपए में गिरवी रख दिया । बताया जाता है कि सोसाइटी ने कारकुंड को डेढ़ लाख रुपए जमा करने का नोटिस दिया था। उसके पास इस रकम को जमा करने के लिए रुपए नहीं थे। कारकुंड ने नोटिस को अपने परिवार के सामने फाड़ दिया और कहा, अब यह कर्ज तुम लोग चुकाना। मैं परेशान हो गया हूं, आत्महत्या कर लूंगा। यह नोटिस मिलने के बाद वह परेशान था और रविवार को उसने कीटनाशक पीकर आत्महत्या कर ली।

किसान की आत्महत्या का मामला तूल पकड़ने पर मध्यप्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंत्री अर्चना चिटनीस  पातोड़ा पहुंची और मृतक किसान के परिजन से भेंट की और उन्हें ढांढस बंधाया। चिटनिस ने बताया कि कारकुंड पर सोसाइटी का 90,000 रुपये का कर्जा था। यह मुख्यमंत्री समायोजन योजना के तहत घटकर अब 34,000 रुपये रह गया है और यह रकम भी जनसहयोग एवं मंत्री के स्वेच्छा अनुदान मद द्वारा अदा करने का प्रयास किया जाएगा। उधर मध्यप्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने इस घटना को शिवराज सिंह चौहान की सरकार पर कलंक बताया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *