थॉट

थॉट

सरकारी स्कूलों के बच्चों को किताबों के लिए पैसों की चिंता

by Lokesh Singh Bisht  अल्मोड़ा । 2 अप्रैल से होगी उत्तराखंड के सभी सरकारी स्कूलों के नए शिक्षा सत्र 2018 की शुरुआत । यहां बता दें कि सभी सरकारी स्कूलों को निर्देश जारी हुए हुए हैं कि 2 अप्रैल से स्कूल सवेरे 8 बजे से अपराह्न 1 बजे तक चलेंगे । इस बार सबसे अहम […]

थॉट

प्राइवेट स्कूलों को अभिभावकों के हित में सोचना चाहिए ,जानिए क्या चाहते हैं हल्द्वानी के स्कूल संचालक

उत्तराखंड के प्राइवेट स्कूलों में एनसीईआरटी की किताबों को लागू करने के राज्य सरकार के फैसले से प्राइवेट स्कूल संचालक नाराज हैं। उन्होंने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला है। हालांकि अभिभावक सरकार के इस फैसले से खुश हैं।इसकी वजह भी हैए एनसीईआरटी की किताबें लागू होने से उनकी जेब पर पड़ने वाला बोझ भी कम […]

तेजस्वी और नीतीश में छिड़ी जुबानी जंग
अपडेट थॉट

तेजस्वी यादव और नीतीश कुमार में छिड़ी ‘जंग’, जानिए क्या है पूरा माजरा?  

दंगों की आग में जल रहा है बिहार, इसी बीच नीतीश और तेजस्वी में छिड़ी जुबानी जंग   By Vikash Karn    पटनाः पिछले कुछ समय से बिहार की राजनीति में लालू यादव की जगह उनके बेटे तेजस्वी यादव की धमक सुनाई दे रही है। भले ही लालू को चारा घोटाला के चलते कई साल जेल […]

माध्यमिक विद्यालय कसारादेवी में अपनी समस्याओं पर चर्चा करते छात्र।
थॉट

माध्यमिक विद्यालय कसारदेवी के बच्चे खुद कैसे निकालते हैं समस्याओं का हल जानिए

शिक्षा का मतलब सिर्फ किताबों को रटकर पास होना नहीं है बल्कि बच्चों के सर्वांर्गीण विकास से है। बहुत से बच्चे एग्जाम में अच्छे नंबरों से पास हो जाते हैं। मगर नौकरी के लिए इंटरव्यू हो या फिर किसी के सामने बात रखनी हो, इसमें वे घबरा जाते हैं। कई बार बहुत कुछ आने के […]

प्राथमिक विद्यालय
थॉट

मास्साब के जिम्मे इतने कितने काम, कैसे संवरेगा बच्चों का भविष्य

by Ramesh Singh  Danu  चावल के बोरों को विद्यालय पहुंचाने के लिए मजदूर व खच्चर को ढूंढने में भी कम परेशानी नहीं होती है। इसके अलावा छात्रों के पौष्टिक आहार अण्डे आदि की व्यवस्था करना भी अध्यापकों के लिए कम चुनौती का काम नहीं है।अण्डे खरीदना उतना कष्टकारी नहीं है जितना कि उनको पहाड़ की […]

थॉट

लाठी न चलाना … गैरसैंण, फिर तपने लगा पहाड़

चद्रशेखर जोशी हल्द्वानी। सरकार 17 साल बाद भी जब तुमने उत्तराखंड की राजधानी घोषित नहीं की तो अब लोग तुम्हारी कुर्सी कहां लगेगी, इसके लिए भी लड़ेंगे। …तुम कोई शहर बसा दो, या कोई गांव बसा दो। यहां के खेत बचाओ-खलिहान बचाओ। युवाओं को नौकरी दो। पहाड़ की सुरक्षा के लिए कुछ करो। जब यहां के […]