अपडेट

उत्तराखंड के पौड़ी में खाई में गिरी बस, 48 यात्री मरे

यात्रियों से खचाखच भरी थी बस, पौड़ी गढ़वाल में भौन से रामनगर जा रही थी। पीएम मोदी ने जताया दुःख। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने किया मुआवजे का ऐलान

देहरादून। उत्तराखंड में सड़क दुर्घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। पहाड़ों की सड़कों पर दौड़ने  वाले तमाम छोटे-बड़े वाहन अकसर हादसे का शिकार होते हैं। ऐसा ही रविवार के दिन भी हुआ, जब पौड़ी गढ़वाल में यात्रियों से खचाखच भरी एक बस 150 मीटर गहरी खाई में जा रही है। हादसा इतना जबरदस्त था कि इसमें 48 यात्रियों की मौत हो चुकी है। जबकि कुछ लोग गंभीर रूप से घायल हैं, ऐसे में मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई नेताओं ने बस दुर्घटना में मारे गए लोगों के परिजनों के प्रति सहानुभूति प्रकट की है। जबकि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने मृतकों के आश्रितों को दो-दो लाख रुपए और घायलों को 50 हजार रुपए मुआवजे का ऐलान किया है।

गौरतलब है कि यह दर्दनाक हादसा रविवार की सुबह 8 बजकर 45 मिनट पर पौड़ी-धुमाकोट नैनीडांडा ब्लॉक में पिपली भौन मार्ग पर हुआ। दुर्घटना इतनी जबरदस्त थी कि बस सड़क से लगभग 150 मीटर गहरी घाटी में जा गिरी। मौत के सफर पर निकली यह बस भौन से रामनगर जा रही थी। लेकिन ग्वीन पुल के पास बस चालक बस से नियंत्रण खो बैठा और बस सड़क से नीचे चली गयी। दुर्घटना कितनी भीषण थी इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि 45 लोग मौके पर ही मौत के मुंह में चले गए। जबकि अन्य लोगों की मौत उपचार के दौरान हुई। घायलों को हैलीकॉप्टर की मदद से अस्पताल पहुंचाया गया।

बताया जाता है कि हादसे की चपेट में आई यह बस ओवरलोड थी, इसमें निर्धारित 30 सीटें बनी थी, लेकिन इसमें 61 लोगों को भर कर ले जाया जा रहा था। यह सड़क बेहद संकरी थी, जिसमें आए दिन दुर्घटनाएं होते रहती हैं।

इस दुर्घटना ने एक बार फिर उत्तराखंड की सड़कों की हालत और बसों के संचालन बरती जा रही लापरवाही को उजागर किया है। यह पहला अवसर नहीं है जब पहाड़ी इलाके में सड़क हादसा हुआ हो। हालांकि हर दुर्घटना के बाद सरकार की ओर से तमाम दावे किए जाते हैं, लेकिन नतीजा कुछ नहीं निकलता।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *