Ashfaq saved two days old baby's life
अपडेट

अशफाक ने रोजा तोड़कर बचाई दो दिन के बच्चे की जान

दरभंगा। बिहार के दरभंगा के अशफाक ने मानवता की मिसाल पेश की है। उसने दो दिन के बच्चे की जान बचाने के लिए रोजा तोड़कर रक्तदान किया। उसके खून से नवजात को नई जिंदगी मिली है। रक्तदान के बाद युवक ने कहा कि रोजा से ज्यादा बच्चे की जान बचाना जरूरी था।

एसएसबी जवान रमेश कुमार सिंह की पत्नी आरती ने दो दिन पहले नर्सिंग होम में आपरेशन के बाद बच्चे को जन्म दिया था। बच्चे की तबीयत बिगड़ने पर डाॅक्टरों ने ब्लड का इंतजाम करने के लिए कहा। बच्चे का ब्लड ग्रुप ओ निगेटिव है। इस ग्रुप  का ब्लड आसानी से नहीं मिल पाता है। रमेश ने अपने जानने वालों में इस ब्लड ग्रुप वाले की तलाश शुरू की। इसी बीच किसी ने फेसबुक पर ओ निगेटिव ग्रुप  वालों से ब्लड देने की अपील पोस्ट कर दी।

अशफाक ने इस पोस्ट को पढ़ा तो वह खून देने के लिए हाॅस्पिटल पहुंचा। भूखा होने के कारण डाॅक्टर ने उसका खून लेने से मना कर दिया। इसके बाद अशफाक ने खाने का सामान मंगाया और रोजा तोड़कर बच्चे को खून दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *