अपडेट विविध समाज

Sunday Special पृथ्वी दिवस: प्लास्टिक से बचने के अजब-गजब कानून है इन देशों में!

सिर्फ भारत में ही रोजाना 15 हजार टन से अधिक प्लास्टिक कचरा होता है पैदा, लेकिन हमारी सरकार नहीं कर सकी है कुछ 

Report Ring Team

नई दिल्लीः आज पृथ्वी दिवस है, लेकिन कई देशों ने हमारी धरती मां के संरक्षण के लिए ऐसे कानून बनाएं है जो काबिलेतारीफ हैं। धरती पर प्लास्टिक कचरे के बढ़ते बोझ के मद्देनजर संयुक्त राष्ट्र ने इस बार की थीम ‘प्लास्टिक प्रदूषण खत्म करो’ रखी है। एक अनुमान के मुताबिक अकेले भारतीय शहरों में ही रोजाना 15 हजार टन से अधिक प्लास्टिक कचरा पैदा होता है। लेकिन भारत सरकार अब तक इस संकट के निपटारे के लिए कुछ खास नहीं कर सकी है। फिर भी कई देश ऐसे भी हैं जिन्होंने प्लास्टिक को लेकर कानून बनाया है। दुनिया के विभन्नि देश प्लास्टिक प्रदूषण से निपटने को क्या असरदार उपाय आजमा रहे हैं आइए जानते हैं।


केन्या- अगस्त 2017 में केन्या सरकार ने प्लास्टिक की थैलियों के उत्पादन, बिक्री, इस्तेमाल और आयात-निर्यात पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया। यहां कानून का उल्लंघन करने वालों को 4 साल तक की जेल और 40 हजार डॉलर (करीब 24 लाख रुपये) जुर्माने की सजा का प्रावधान है।

आयरलैंड- 2002 में प्लास्टिक की थैली पर टैक्स लगाया, हर बार प्लास्टिक की थैली में सामान खरीदने पर 22 यूरो सेंट (लगभग 165 रुपये) अतिरिक्त शुल्क अदा करना पड़ता है।

फ्रांस- सितंबर 2016 में फ्रांस डिस्पोजेबल प्लास्टिक कप-प्लेट आदि के प्रयोग पर पाबंदी लगाने वाला दुनिया का पहला देश बना। जनवरी 2020 तक सभी डिस्पोजेबल बर्तनों के निर्माण में 50 फीसदी प्रकृतिक वस्तुओं के इस्तेमाल का आदेश दिया गया।

ब्रिटेन- ब्रिटिश सरकार प्लास्टिक की बोतलों पर 22 पेंस (करीब 21 रुपये) का अतिरक्ति शुल्क लगाने की योजना बना रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *